अमनौर विधान सभा क्षेत्र में  जदयू का सबसे बड़ा चेहरा कृष्ण कुमार उर्फ़ मंटु सिंह जदयू का दामन छोड़ भाजपा के साथ मिल गए हैं । ऐसा हमेशा से माना जाता रहा है की मंटु सिंह नीतीश कुमार के अत्यंत क़रीबियों में से एक है और इनका भाजपा में जाना जदयू वालों के गले से नीचे नहीं उतर रहा होगा । ख़ैर जो होना था वो तो हो हीं गया लेकिन इस से जदयू में हड़कंप मच गया है और साथ ही साथ चोकर बाबा और उनके समर्थकों का भी कुछ ऐसा ही हाल है। मंटु सिंह के भाजपा में मिल जाने से अमनौर विधानसभा क्षेत्र के  राजनीति समीकरण में उथल-पुथल मच गया है ।

ऐसा कहा जा रहा था कि भाजपा अपने सीटिंग कैंडिडेट्स को हिं टिकट देगी लेकिन यहाँ पर खेल कुछ उल्टा पड़ने की उम्मीद है । अब यदि भाजपा मंटु सिंह को टिकट देती है तो चोकर बाबा के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो जाएगी । उनके पास दो हीं विकल्प बच जाएगा या तो भाजपा को छोड़ निर्दलीय चुनाव लड़े या जदयू का दामन थाम वहाँ से टिकट का गुहाड लगाए । 

ख़ैर जो भी हो इस बार चुनाव में मज़ा बहुत आने वाला है और उससे भी ज़्यादा टिकट का बँटवारा दिलचस्प होने जा रहा है, जो कि क्षेत्रीय स्तर से लेकर राज्य स्तर तक दिखाई दे रही हैं । नीतिश कुमार को यहाँ जो झटका लगा वो तो बस बोनस है असली झटका तो चिराग़ पासवान ने दिया है वो भी भाजपा के साथ ना दिखाई देने वाला गठबंधन करके । तीन बार से बिहार का शासन चलाने वाले नीतीश कुमार को चौथा मौक़ा शायद मिले ना मिले।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.